Pratyasha Nithin 


Pratyasha Nithin is a budding writer and a self-taught artist currently residing in Mysore, India. She has written articles and blog-posts on women’s issues. She is passionate about story-telling and believes that it is a powerful medium to convey ideas and ideals. 

Articles

Rendezvous with the Divine

Story | Posted On: 02 Sep 2019

Ganapati helps us see the light when we become blind by luxuries that this life has to offer.

नए जीवन की ओर (भाग ३)

Story | Posted On: 15 Feb 2019

गँगा के घाट पर बैठी सुचिता ने जब अपनी पुरानी जिंदगी को याद किया तो उसे कोई तकलीफ नहीं हुई।

नए जीवन की ओर (भाग २)

Story | Posted On: 07 Feb 2019

सुचिता के जीवन मे रमन का वापस आना उसके लिय बहुत उतार-चढ़ाव भरा समय होता हैं।

नए जीवन की ओर (भाग १)

Story | Posted On: 01 Feb 2019

गंगा के किनारे सुचिता का रमन से मिलन उसके जीवन में बहुत बदलाव लाता है।

विषम अनुग्रह

Essay | Posted On: 13 Sep 2018

एक युवा लड़के पर गणेश भगवान का प्रभाव उसकी पूरी जिंदगी बदल देता है।

विश्वास की एक बूँद

Story | Posted On: 25 Mar 2018

जीवन में भक्ति और विश्वास का स्थान स्थिर है जिसे आधुनिक जीवन के उथले सिद्धांत नहीं ले सकते ।

A wife's dilemma

Story | Posted On: 20 Feb 2018

Swarnima's and Vaamdeva's visit to the hermitage of Rishi Shukamukha turns out to be an extraordinary pilgrimage, which changes the meaning of their relationship forever.

Need Help?



Submit

Have a suggestion?



Submit